शुक्रवार, 10 अप्रैल 2009

कारण

ईश्वर के द्वारा बनायी गयी सबसे पहली दुनिया सभी दृष्टीकोणों से सम्पूर्ण थी। परन्तु पता नहीं क्यों यह दुनिया कुछ अधिक दिन तक चल नहीं सकी और नष्ट हो गयी ।


बहुत सोच-विचार के पश्चात ईश्वर ने पुनः एक नई दुनिया बनायी और इस बार उसने इस दुनिया में दुःख, दर्द, कष्ट, दया, प्रेम, घृणा, पश्चाताप और अनेकों कारण डाल दिये ।
और यह दुनिया आज तक चल रही है ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. दुनिया में तो हमेशा से दुःख, दर्द, कष्ट, दया, प्रेम, घृणा, पश्चाताप आदि का द्वंद दिखलाई पड़ता है भाई। बिना द्वंद या सापेक्षता के दुनियाँ का बहुत मतलब भी नहीं है।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. I liked your blogs and taste. But, To see things and interpret them in one way or the other in one thing, to change them is another. I have chosen the latter.

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails