शनिवार, 19 सितंबर 2009

दो मैथिली अगड़म-बगड़म !!!!!

               (फोर्ट कोच्चि में लिया गया फोटो)

-------------------------------------------------------------------------------------

माछ- भात तीत भेल

दही- चिन्नी मिठ्ठ भेल

खाकऽऽ टर्रर छी     ।

-------------------------------------------------------------------

कारी मेघ

कादो थाल

झर झर बुन्नी

चुबैत चार

 

-----------------------------------------------------------------------------------

(चिन्नी= चीनी, मिठ्ठ= मीठा, कारी= काला, बुन्नी= बरसात, तीत= तीखा, चुबैत= टपकना, चार= छप्पर)

17 टिप्‍पणियां:

  1. inspite of the fact you gave the meaning, then too it was not understandable....
    however new template and pics looks good
    !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. bad nik.. likhait rahu.. hamara sabh ke sunawait rahu.. badhaaai....

    उत्तर देंहटाएं
  3. पंकज जी और दर्पण जी क्षमा चाहता हूँ । मैं हिन्दी अनुवाद करने की कोशिश करता हूँ ।

    माछ- भात तीत भेल
    दही- चिन्नी मिठ्ठ भेल
    खाकऽऽ टर्रर छी ।

    अर्थ--------

    मछली चावल तीखा (मिर्च) है
    दही चीनी मीठा है
    खाकर पड़े हुए है ।

    मिथिलांचल में भोजन पदार्थ के रूप में मछली चावल और दही का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है । इनके लिये लोग अपना जरूरी कार्य भी छोड़ देते है । कहने का मतलब है निश्चिन्त होकर खाते है और पड़े रहते है ।


    कारी मेघ
    कादो थाल
    झर झर बुन्नी
    चुबैत चार ।

    अर्थ----

    काले काले भयंकर मेघ
    चारो तरफ फैला हुआ कीचड़
    झमाझम बरसात
    और टूटे हुए छ्प्पर (खर-पतवार और खपड़े से बनी हुयी छत) से रिसता(बहता) पानी जो गरीब के घर को नरक बना देता है । मैनें देखा है अपने गांव में ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेमिशाल है ये आपकी रचना...चन्दन जी ...आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह बहुत ही सुंदर और प्यारी रचना! तस्वीर भी बहुत अच्छी लगी! रचना की पहली लाइन "माछ भात" बड़ा अच्छा लगा क्यूंकि ये बंगला भाषा में कहते हैं "मछली चावल " को!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हां बबली जी, मैथिली और बंगला बहुत ही करीबी और एक ही परिवार की भाषा है । बहुत ही समानता है दोनों भाषाओं में ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर! हमेशा की तरह........

    उत्तर देंहटाएं
  8. चन्दन बउवा,
    इ तो बहुते नीक भेल...
    काहे की आजे हम किसी से मैथिली भाषा की बात किये और तुम्हरा ब्लॉग पर भगवान् चहुंपा दिए ...

    माछ- भात तीत भेल
    दही- चिन्नी मिठ्ठ भेल
    खाकऽऽ टर्रर छी

    बहुत ही बढियाँ है ...
    इ तो मैथिली में हाइकु हो गया है बबुवा..
    अरे लिखते रहो....हम तो बहुते खुस हो गए भाई पढ़ के..
    आर्शीवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  9. अदा दी ,

    आपने इतनी अच्छी टिप्पणी की , बहुत बहुत आभार । यह जानकर खुशी हुई की आप मैथिली जानती है । और जब आपने आशिर्वाद दिया है तो और अच्छा लिखने की कोशिश करुगां । इसी तरह मनोबल बढ़ाते रहिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाई यह तो मैथिली के हाइकू जैसा लगता है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर है जी यह मैथिल हाइकू। इसके शब्द हमारी भोजपुरी में भी काफी मिलते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. chandan bauwa,
    ham maithili nahi jaante hain lekin seekhna zaroor chahenge.
    tum hi seekhana accha..

    उत्तर देंहटाएं
  13. chandan ji aap ko to kavi hona chahea
    aap bahut achha lekhate hai

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails