शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2009

तूफान के बाद !!!

 

 

 

 

 

 

 

 

देखा तो बरसात हुई थी,

बाहर सबकुछ भींग चुका था,

अन्दर अभी भी सूखा था,

आँखे अभी भी गीली हैं ।

21 टिप्‍पणियां:

  1. Chandan bauwa,
    Waah..!!
    andar ab bhi sookha hai....aankhen ab bhi geeli hain..
    kam shabdon mein bahut gahan bhav..
    bahut accha likhte ho padh kar man khush ho jaata hai..
    khush raho...

    उत्तर देंहटाएं
  2. Short and Sweet and deep,
    and deeply
    (e)motivating.
    Congratulations !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut khhob likha bhai.. iska kuch ulta sa likha maine.. dekhna..
    तुझे दिखने नही देता,
    पर अंदर ही अंदर रोता हूँ...
    आँखों पर आने नही देता,
    घूँट तो आँसू का पीता हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. yah kavitaa spasht kartee hai ki ek sashakta sheershak kitanaa zaroory hotaa hai, kavitaa ke bhaav ko sampreshit karne ke liye. Aur isee kaaran bahut see achchhee kavitaaen bhee durooh ho jayaa kartee hain .

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह !! और आह!! दोनों हैं अन्दर भी बरसात हो और आप भीग कर सरोबार हो जाएँ यही प्रार्थना है !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही ख़ूबसूरत भाव और अभिव्यक्ति के साथ लिखी हुई आपकी ये रचना काबिले तारीफ है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अंदर का सूखापन
    बाहर की बरसात
    आंखों का गिलापन
    कवि ह्रदय की कोमल कल्पना
    रवि सदृश चमचमा रही आत्मना

    शुभकामनाएँ !!!

    http://gunjanugunj.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर कविताएँ हैं और गद्य भी। काव्य आप के मन में छुपा बैठा है जो अभिव्यक्त हो रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. kavita me bhav ka vishesh mahtav hai. iske na hone se aisa prateet hota hai ki kavita hai lekin sar par aachl nahi hai. sunder rachna ke lia meri shubhkamnaye. men ke gubbar ko shabd dena hi sabse bari kala hai. bhav pachh ki abhivyakti hi is baat ka saboot hai ki gahrai me hi moti milta hai. shesh fir.......
    -:Rajeev Matwala

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही ख़ूबसूरत भाव और अभिव्यक्ति के साथ लिखी हुई आपकी ये रचना काबिले तारीफ है!

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails