शुक्रवार, 20 नवंबर 2009

एक प्याली चाय

चाय,

एक प्याली चाय

सिर्फ चाय नहीं

यह देती है जीवन

उस मरे हुए आदमी को

जो बच निकलता है

सुबह की खूबसूरत मौत से ।

और फिर तैयार होता है

एक आनेवाली मौत के लिये ।

अगर आप कहेंगे कि

चाय पीना, एक नशा है

तो मंजूर है हमें यह नशा ।

एक प्याली चाय

आप खरीद सकते है

दो या तीन रुपये में ।

मिल जायेगी

एक चाय की दूकान

आपको किसी भी बाजार में

बस स्टाप पर

या किसी चौक पर ।

या फिर

अगर आप जानते है

चाय बनाना

तो यह आपकी महानता है ।

यहाँ ज्यादातर लोगो को

नसीब हो जाती है चाय ।

कुछ लोग सुबह के नास्ते में

निगल जाते है

रात की बची हुई सूखी रोटियां

चाय के साथ ।

कुछ लोगों को

‘दानेदार’ या ‘लीफ़-टी’ पसंद है ।

कुछ ‘डस्ट’ से ही चला लेते है

अपना काम ।

कुछ लोग पीते है चाय

स्वाद के लिये

और कुछ  

महज टालने के लिये थोड़ी देर तक भूख ।

आजकल चाय भी बहुत

महंगी हो गयी है ।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails