गुरुवार, 10 दिसंबर 2009

यादों का पहाड़

 

DSC00955

पहाड़ से नीचे उतरते हुऐ

दूर तक दिखते

छोटे-छोटे घर

जहाँ कैद है अभी भी

कुछ भूली-बिसरी यादें ।

दूर तक फैला हुआ

कुहासे में लिपटा

गुमशुदा शहर

जहाँ से बच निकला था मैं कभी ।

घुमावदार सड़कों पर

फिसलती बसDSC03225

और इन सड़को से भी ज्यादा

टेढ़ी-मेढ़ी यह जिन्दगी ।

जिन्दगी की दीवार पर

कील की तरह

टंगी कुछ यादें ।

सदियां बीत जाये

भूलने में

कुछ ऐसी यादें ।DSC02881

और तुम्हारे काँधे की गर्म खुशबू

भुला नहीं पाया मैं आजतक ।

अब पहाड़ों पर

नहीं जाता मैं ।

9 टिप्‍पणियां:

  1. वाह
    अत्यंत उत्तम लेख है
    काफी गहरे भाव छुपे है आपके लेख में
    .........देवेन्द्र खरे

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही है जो मंजर यादे कुरेद दें वहाँ जाना ही क्यूँ !
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'ab pahaadon par naheen jaataa main'!
    ek aisaa ant hai jahaan se kaee naee raahen footatee hain . yah to aapkee manah-sthiti hai ki aap kis raah kee or khinch jaate hain. bahut sundar rachnaa, jo oohaa-poh se praarambh hokar oohaa-poh men samaapt (?) hotee jaan padtee hai, aur oohaa-poh yathaawat saamne banaa rahtaa hai. bhaawaabhivyakti bhee utnee hee khoobsoorat hai . badhaaee .

    उत्तर देंहटाएं
  4. Kya baat hai! Zindgaee kee deevar par tangi huee kuchh yaden!Kaash tange hue kapdon kee tarah ham yaadon hata sakte...sirf suhani yaden rakhte,baaqee sab dafan kar dete..

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. और इन सड़को से भी ज्यादा

    टेढ़ी-मेढ़ी यह जिन्दगी ।

    जिन्दगी की दीवार पर

    कील की तरह

    टंगी कुछ यादें ।


    बहुत खूब...इतनी कम उम्र में इतना अच्छा लिख लेते हो...सरस्वती मेहरबान हैं...ऐसे ही रहें..:)

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिन्दगी की दीवार पर
    कील की तरह
    टंगी कुछ यादें ।

    सच कहा जहाँ जख्म दुबारा रिसने लगें वहाँ कौन जाएगा ...... बहुत ही अच्छी रचना है .... दर्द भरी, दिल को छूते हुवे गुज़रती है ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. "इन सड़को से भी ज्यादा / टेढ़ी-मेढ़ी यह जिन्दगी"

    एक अच्छी कविता चंदन। सीधे दिल से निकली दिल तक पहुँचती हुई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह ...
    बहुत सुन्दर कविता...
    अच्छा लगा पढ़कर

    शुभ कामनाएं



    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    श्रेष्ठ सृजन प्रतियोगिता
    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    क्रियेटिव मंच

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails