रविवार, 13 जून 2010

मेरे अतीत का आँगन

आह !!!

कैसा है यह दुःसाहस,

देखता हूँ मुड़कर मैं,

अपने अतीत के उस खण्डहर को,

अपने आँगन में,

सर झुकाए मैं खड़ा था ।

टूट रहा था विश्वास,

खत्म हो रहे थे सारे सम्बन्ध,

मेरे मन के उस आँगन में ।

और

मिट चुकी थी

भविष्य की रेखाऐं

मेरे छोटे-छोटे हाथों से ।

मुझे याद नहीं,

माँ का आँचल

जहां मैं अपने आँसू पोछ सकता ।

मुझे अब याद नहीं,

पिता का नर्म स्पर्श ।

मेरा बचपन,

टूट रहा था ।

और मैं-

सर झुकाए आज भी खड़ा हूँ

अतीत के उस आँगन में ।

31 टिप्‍पणियां:

  1. Ateet ka aangan bhala kaun chhod paya! Par aapka andaze bayaan khoob hee hai!

    उत्तर देंहटाएं
  2. Jab ateet ka ek khandhar ban saamne aaye to kitna dard hota hai...gazab ke b hav ubhre hain!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज बहुत दिनों के बाद आप के ब्ला़ग पर आना हुआ । भावनाओं को सुंदर शब्द दिए हैं आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अतीत का आंगन और बचपन का टूटना
    बहुत खूब .. सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक मुकम्मल बयान,
    अधूरेपन के मुकम्मल एहसास का ।
    बेहद खूबसूरत,
    अपनी तपिश में पिघलता हुआ !
    बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आह !!!
    कैसा है यह दुःसाहस,


    ...
    मेरा बचपन,
    टूट रहा था ।
    और मैं-
    सर झुकाए आज भी खड़ा हूँ
    अतीत के उस आँगन में !

    isliye mukammal hai .

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह कविता दिल को छू गई...... बहुत सुंदर......

    उत्तर देंहटाएं
  8. अतीत देखकर सर उठायें, प्रसन्न हों और उत्साह संचारित करें जैसा बचपन में था ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. नमस्ते,

    आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. aap nisandeh achcha kar rahe hai. kavita se to pushti ho rahi hai. ishwar ke sun lene ke karan? khair badhai swikare.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अतीत के कठिन पलों को याद करना दुस्साहस ही है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. main aap se bohot prabhvit hu... maine bhi apna blog shuru kiya hai... mere prayas me main aapke evam sabhi ki tippaniya chahunga...taakij main apne prayso ko aur bhi sudhaar saku...

    http://sunhariyaadein.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. चंदन जी आपकी कविता पढ़कर अपनी एक कविता याद आ गई-
    अतीत के कूप से जंरूरत के लोटे से
    अनुभव का जल खींचता हूं

    काम की नई फसल बोने से पहले
    वर्तमान की जमीन सींचता हूं।

    तो भैया अतीत के आंगन में सिर झ़काकर नहीं उठाकर खड़े होओ,तभी इस वर्तमान को बेहतर अतीत के रूप में याद कर सकोगे।
    शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अतीत के आँगन मे खड़े रह जाना दुखद तो होता है..मगर वक्त आगे बढ़ता रहता है..और भविष्य की तमाम नेमतें अपने दरवाजे पर हमारा इंतजार भी करती रहती हैं..सो समय की धारा मे खुद को निढाल छोड़ कर देखिये..जाने किधर ले जाये..

    उत्तर देंहटाएं
  15. Mast hai Bhaut

    Mujhe bhi yaad aata hai mujhe mera atit.
    Jis atit mein humnein guzare woh pal the
    miss.u

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह ...
    बहुत सुन्दर कविता
    मन को भावुक कर दिया

    आभार / शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  17. मुड़ कर देखिए, नया सवेरा आया है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. मुझे याद नहीं,

    माँ का आँचल

    जहां मैं अपने आँसू पोछ सकता ।

    मुझे अब याद नहीं,

    पिता का नर्म स्पर्श...

    यह जो लिखा आपने... दिल को छू भी लिया, मरोड़ भी दिया... आह

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर रचना...कुछ नया पोस्ट करिए....

    उत्तर देंहटाएं
  20. अपने आँगन में,

    सर झुकाए मैं खड़ा था ।

    टूट रहा था विश्वास,

    खत्म हो रहे थे सारे सम्बन्ध,bahut sunder.

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails