सोमवार, 17 अगस्त 2015

कांतीभाई

लड़के ने अपनी नयी नयी मूछें कुतरवाई । साथ की कुर्सी पर बैठे मित्र ने अठखेेली की - "गुरू पूरा ही सफाचट करवा लो न " ।

हज्जाम ने आँखे सिकोरकर दोनों  को बारी - बारी से देखा ।


"मरवाओगे क्या " लड़के ने हँसते हुए कहा ।

मित्र मण्डली जोर के ठहाके से गूँज उठी ।

मूंछो को बारिकी से सजा दिया गया ।

टोली में चार पांच लोग थे । किसी ने चेहरे का मसाज करवाया तो किसी के बालों को खूबसूरती से सँवारा  गया ।
हज्जाम ने एक - एक कर सभी को निपटाया ।

मैं आधे घण्टे से अपनी बारी का इंतज़ार कर रहा था ।

शोर के साथ सभी दूकान से बाहर आ गए ।

"क्या सर ? दाढ़ी या बाल ?"

ये बगल की कुर्सी पर जो लड़का बैठा था न .…इसके चाचा के कई सारे कारोबार है । महीने का एक से डेढ़  लाख तो सिर्फ पुलिस के पास पहुंचता है । सोचिये कितनी आमदनी होगी । खूब पैसा उड़ाते  है ये लड़के लोग ।

अच्छा ! करते क्या है इनके चाचा ?

अरे सर दारू का कारोबार है और न जाने क्या क्या ।
 
लेकिन लड़के लोग अपने भाई जैसे है । जाखड़ गाँव से यहाँ आये है……१० किलोमीटर दूर से । मेरी ही दूकान पर आते है सब । हमेशा !!!

सबको कांतीभाई ही चाहिए । गर्व का अनुभव किया उसने ।



मंगलवार, 12 मई 2015

अपना इतिहास


 













शब्द मेरे हो या तेरे 
कहानी एक ही लिखी जाएगी । 

साफ़ सफ़ेद पन्नों पर 
आर- पार दिखेगा 

अपना इतिहास ।



सोमवार, 4 मई 2015

विवश आदमी


झुकाता है शीश । 

खूंटे को ही समझता  है
अपना ईष्ट  ।

आँखो पर पट्टियाँ बांधे
लगातार बार -  बार
कोल्हू के बैल की तरह
लगाता  चक्कर  ।

सभ्यता के खूंटे में बंधा
विवश आदमी  ।



************


बुधवार, 29 अप्रैल 2015

इश्क की ख़ुशबू



तेरे इश्क की ख़ुशबू

मेरे साँसों में बसती है

कि अपनी रूह से पूछो

मिटा कर खाख कर डाला

खुद को इश्क में तेरे ।











शनिवार, 25 अप्रैल 2015

गजेन्द्र


गजेन्द्र गए तुम ऊपर
वाल पर चढ़ गया एक और स्टेटस

- इंक़लाब ज़िंदाबाद । 

************

गजेन्द्र बढ़ो आगे अब तुम
ठेल - ठाल चढ़ जाओ सूली

 - जय जवान जय किसान ।

************

प्राण दिए व्यर्थ ही
गजेन्द्र गए बिना अर्थ ही

- दिल्ली चलो दिल्ली चलो  ।

************

महान मेरा तंत्र यह
गजेन्द्र सुनो मंत्र यह

- तुम मुझे रक्त दो मैं तुम्हें लोकतंत्र  दूँगा ।


************




 

सोमवार, 20 अप्रैल 2015

दूरी आदमी - आदमी के बीच की

आदमी को देखो

चाँद पर चला गया है वह ।

और कहता है

उससे भी आगे जाने की

फिराक में है वह ।

उसके दूत निकल चुके  है

अंतरिक्ष की अनंत सैर  को

पृथ्वी और सूर्य की

संधी से बाहर

असीम संभावनाओं  की तलाश में ।

प्रकाश की गति को

प्राप्त कर लेना चाहता है आदमी

और वह सफल भी होगा  ।

बस आदमी और आदमी का विज्ञान

नहीं कर पाया तय दूरी

आदमी - आदमी के बीच की ।


***************************


बुधवार, 15 अप्रैल 2015

समय की स्याही

वह धोता है अपनी तलवार

रक्त की ऊष्मा से ।

वह चुनता है सत्य को

ताकि समय की स्याही

उसे याद रख सके  ।

किन्तु बच नहीं पाता वह भी

समय द्वारा

खण्डहर होने से  ।



मंगलवार, 14 अप्रैल 2015

मैं भाग रहा था ।

साँझ हुई थी

सब चुप थे ।

कहीं बूँद गिरी थी

बादल पिघले थे ।

चुप चाप खड़ा

सहमा सा था ।

न जाने कब से

खुद से ही

मैं भाग रहा था । 



LinkWithin

Related Posts with Thumbnails