बुधवार, 29 अप्रैल 2015

इश्क की ख़ुशबू



तेरे इश्क की ख़ुशबू

मेरे साँसों में बसती है

कि अपनी रूह से पूछो

मिटा कर खाख कर डाला

खुद को इश्क में तेरे ।











2 टिप्‍पणियां:

  1. मित्र चन्दन. अच्छा लगा आपका प्यार भरा संवाद इन पंक्तियों में महसूस करके "मिटा कर खाख कर डाला खुद को इश्क में तेरे".. इसका अगला भाग जल्द लिखना....

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails