शहर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
शहर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 15 सितंबर 2009

अपना हीं घर वह तो नहीं

 

गमगीन है हर आदमी

क्यों खो गया सुख चैन ।

क्यों रोकता कोई नहीं

इस जंग को तूफान को ।

क्यों बह रहा है नालियों में

खून मेरे अपनो का ।

शाख  पर जो स्वप्न थे

क्यों झड़ गया वह पर्ण है ।

क्यों हो रहा नंगा यहाँ सब

कैसी मची हुरदंग है ।

जो चले थे हम जलाने

आंगन किसी और का ।

वह दूर से उठता धुँआ

अपना हीं घर वह तो नहीं ।

क्यों सड़क है सुनसान

क्यों गलियाँ है खामोश ।

यह शहर अब

जिंदा लोगो की

कब्रगाह बन चुकी है ।

(चित्र गूगल सर्च से)

 

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails