मंगलवार, 12 मई 2015

अपना इतिहास


 













शब्द मेरे हो या तेरे 
कहानी एक ही लिखी जाएगी । 

साफ़ सफ़ेद पन्नों पर 
आर- पार दिखेगा 

अपना इतिहास ।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails