शुक्रवार, 20 मार्च 2009

गुलमोहर के फूल



प्रिय तुम सबसे सुन्दरतम
फूलों से भरा तेरा आचंल
महकें है मेरा कण-कण तन मन ।

19 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉगजगत में आपका हार्दिक स्वागत है ,आपके लेखन के लिए मेरी शुभकामनाएं .........

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बहुत धन्यवाद ज्योतसना जी!!!!!!!!!!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    जवाब देंहटाएं
  4. प्रिय तो होती है ऐसी है
    बहूत खूब.............

    जवाब देंहटाएं
  5. धन्यवाद संगीता जी एवं दिगम्बर जी
    कृप्या इसी तरह मार्गदर्शन करते रहियेगा...

    जवाब देंहटाएं
  6. क्षमा करियेगा ज्योत्स्ना जी.
    आपका नाम मैंने गलत लिख दिया.

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..

    जवाब देंहटाएं
  8. मेरी सांसों में यही दहशत समाई रहती है
    मज़हब से कौमें बँटी तो वतन का क्या होगा।
    यूँ ही खिंचती रही दीवार ग़र दरम्यान दिल के
    तो सोचो हश्र क्या कल घर के आँगन का होगा।
    जिस जगह की बुनियाद बशर की लाश पर ठहरे
    वो कुछ भी हो लेकिन ख़ुदा का घर नहीं होगा।
    मज़हब के नाम पर कौ़में बनाने वालों सुन लो तुम
    काम कोई दूसरा इससे ज़हाँ में बदतर नहीं होगा।
    मज़हब के नाम पर दंगे, सियासत के हुक्म पे फितन
    यूँ ही चलते रहे तो सोचो, ज़रा अमन का क्या होगा।
    अहले-वतन शोलों के हाथों दामन न अपना दो
    दामन रेशमी है "दीपक" फिर दामन का क्या होगा।
    @कवि दीपक शर्मा
    http://www.kavideepaksharma.co.in
    इस सन्देश को भारत के जन मानस तक पहुँचाने मे सहयोग दे.ताकि इस स्वस्थ समाज की नींव रखी जा सके और आवाम चुनाव मे सोच कर मतदान करे.
    काव्यधारा टीम

    जवाब देंहटाएं
  9. I have gone through those lines of poems,though i am finding it difficult understand it but still striving hard to know the meaning and the intention behind it.
    These legitimate lines are quiet beautiful n even touched anyone heart,if anyone tries with intently.

    My best wishes are always with you.

    Cheers!!

    Have a wonderful day dear.:)

    जवाब देंहटाएं
  10. ब्लोगिंग जगत में स्वागत है
    लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
    सुन्दर रचना
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    http://www.rachanabharti.blogspot.com
    कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
    http://www.swapnil98.blogspot.com
    रेखा चित्र एंव आर्ट के लि‌ए देखें
    http://chitrasansar.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  11. धन्यवाद वन्दना अवस्थी एवं रचना गौड़ ’भारती’ जी!!!!!!

    जवाब देंहटाएं
  12. गुलमोहर के फूल मनोहर
    खिले हुए हैं चारों ओर!
    इनके बीच बैठकर बोले
    कोकिल मीठे-मीठे बोल!

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails