गुरुवार, 30 जुलाई 2009

मेरी डायरी के कुछ पन्ने



शनिवार को मैं गांव से दरभंगा आ गया यहां आकर पता चला कि आसनसोल से मेरा मनीआर्डर आया हुआ है मैं डाकघर जाने ही वाला था कि याद आया, आज तो रविवार है अतः डाकघर बन्द होगा दूसरे दिन सुबह दस बजे डाकघर गया

टेबल पर बैठे एक सज्जन पत्र छांट रहे थे
उनसे
मैंने कहा, " कल मेरा मनिआर्डर आया था और मैं छात्रावास मे नहीं था"
"कतऽ रहई छी ?" ( कहां रहते हैं आप?) उनहोंने मैथिली में पूछा
मैंने कहा, "आइन्सटीन छात्रावास में"
"नाम की भेल ?,"(नाम क्या है?) पत्र छांटते हुए उन्होनें पूछा
"चन्दन कुमार झा"मैंने कहा

उन्होंने सामने कुछ दूर पर खड़े एक आदमी की ओर दिखाते हुए कहा-

"वो उन्हे देख रहे है न, जो टीका- चन्दन किये हुये है, उनके पास जाइये और अपना नाम कहियेगा तो कल आपको आपका मनिआर्डर मिल जायेगा "

तब मुझे पता चला की मेरा मनिआर्डर डिपोजिट में रख दिया गया है मैं समझ गया कि अब मुझे परेशान होना ही पड़ेगा तभी चन्दन-टीकाधारी पुरुष अपने स्थान से दूसरे स्थान पर चले गये. मैं उन्हें पीछे से देख ही रहा था, और जल्दी से उनके पास गया वे कुर्सी पर बैठ गये, सामने टेबल पर काफी सामान बिखरा हुआ था वैसे वे उतने व्यस्त नहीं लग रहे थे

मैनें
उनसे कहा, "मेरा नाम चन्दन कुमार झा है, कल मेरा मनिआर्डर आया था, उस समय मैं हास्टल में नहीं था, सो पता चला है कि उसे डिपोजिट में रख दिया गया है, अतः क्या मुझे मेरा मनीआर्डर मिल सकता है "

"अवश्य मिलेगा", उन्होंने पूछा,"आपको किसने भेजा है ?"

मैनें सामने दिखलाते हुए कहा, "वो जो किनारे से बैठे हुये है, लाल रंग का कुर्ता पहने हुए "

उन्होंने अपना सिर घुमा लिया और अपने कार्य में व्यस्त हो गये
मैं थोड़ा झुंझुला उठा

मैनें पुनः प्रश्न किया, "क्या मुझे कल फिर आना पड़ेगा ?"
उत्तर स्पष्ट था, "आप क्यों आएगे , डाकिया पहुचां देगा"
मैनें पूछा, "क्या आज नहीं मिल सकता ?"
उत्तर आया,"एकदम नहीं"

मैं कुछ परेशान सा हो गया, पर क्या कर सकता था, अतः वापस छात्रावास लौट आयादिन के १२ बज रहे थेमैनें सोचा शायद डाकिया मनिआर्डर लेकर आज ही आ जाये अतः समाचार पत्र लेकर छत पर जाने वाली सीढी पर बैठ गया, जहां से सामने गुजरने वाली सड़क पर सीधी नजर रखी जा सके बहुत देर तक वहां बैठा रहा, अन्त में थककर अपने कमरे में आ गया कमरे की खिड़की से भी सामने वाली सड़क नजर आती थी अतः खिड़की से भी अवलोकन का कार्यक्रम चलता रहा कि अचानक डाकिया आता दिखाइ पड़ा मैं भागकर नीचे गया, पर सारी आशा निराशा में बदल गयी डाकिया ने मेरा मनिआर्डर नहीं लाया था

चुपचाप खाना खाने चला गया

(२४ सितम्बर२००१)


18 टिप्‍पणियां:

  1. Actually it is not the problem of a single people rather a problem with which a common mass have to face very silently,calmly n without expressing any anguish and finally you will find yourself in the midst of roadways seeking console with his/her all diminishing eyes.
    Its a truth about the "LIFE".

    Anyways...cheers!!!
    Have a wonderful day ahead. :)

    जवाब देंहटाएं
  2. Sarkaari kaam aise hi hote hain.......... paise ke bina aage nahi sarakte....

    जवाब देंहटाएं
  3. आप की रचना प्रशंसा के योग्य है . आशा है आप अपने विचारो से हिंदी जगत को बहुत आगे ले जायंगे
    लिखते रहिये
    गार्गी

    जवाब देंहटाएं
  4. Ant me aapoko money order kab mila?

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  5. हां शमां जी मुझे दूसरे दिन हीं मनिआर्डर मिल गया था.

    जवाब देंहटाएं
  6. अच्छी रचना है...इसी तरह हमें अभिभूत करते रहेंगे...

    जवाब देंहटाएं
  7. प्रिय मित्र,
    आपको भी मित्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.....साथ ही IOCL में चयन की भी.....आपके सुंदर एवं उज्जवल भविष्य की शुभकामनाओं सहित :-).....संस्मरण अच्छे हैं.....वैसे मैंने भी कई बार डायरी लिखने के बारे में सोचा, परन्तु लिख नहीं पाया.....:-(

    साभार
    प्रशान्त कुमार (काव्यांश)
    हमसफ़र यादों का.......

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! इस शानदार पोस्ट के लिए बधाई और आपकी लेखनी को सलाम!

    जवाब देंहटाएं
  9. dear chandan ji, i've read your blog 7 liked it. keep it up .

    जवाब देंहटाएं
  10. dear chandan ji, thanks for being with my expressions on mera akash. sach kahoo pahle to aisa laga jaise kisi anjan jagah aa gayi jaha bahut sare log hai, par mujhe koi nahi janta.likin shukra hai ki safar shuru kiya to sathi bhi milne lage... aap aise hi shabdo ke zariye jude rahiye achchha lagega... aapki diary pad kar meri khuchh purani diaries ke panne bhi udne lage hai.....

    pratima from MERA AKASH....

    जवाब देंहटाएं
  11. चन्दन साहब
    मेरे ब्लॉग पर आकर टिप्पणी देकर मेरा होसला अफजाई करने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया
    जुडाव बनायें रखें

    जवाब देंहटाएं
  12. अच्छा इश्टाइल है लिखने का !

    जमे रहिये !

    जवाब देंहटाएं
  13. अपने सभी पाठको का हृदय से आभार....यूँ हीं टिप्प्णीयों द्वरा अनुग्रहित करते रहे.

    जवाब देंहटाएं
  14. प्रियवर,
    मेरी रचना पर टिप्पणी के लियर धन्यवाद.
    आपका ब्लॉग देखा. मन प्रसन्न हो गया. विशेषकर आपकी डायरी के पन्नों ने बहुत प्रभावित किया. आशा करता हूँ इस माध्यम से सम्पर्क बना रहेगा.
    --भारती--

    जवाब देंहटाएं
  15. priy Chandan ji aapka blog dekh raha tha ... aapki dairy par nazar tik gai ... is vidha par aapki pakad bahut aachhi hai.. kavita bhi likhte rahiye leekin dinesh kumar shukla ki ye pankti yad rkhte hue "sou yojan maru bhoomi par kar kavita ke prantar mein jana/ bin chhalkaye man ke ghat mein boondh boondh jal bhar kar lana" 1993 mein maine jab apni pahli rachna vrishath sahitykar Prof. R.L SHANT ko dikhai to unke shabd thea "kyon barbad hona chahte ho shyam"

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails