गुरुवार, 11 मार्च 2010

जाल (Trapped)

कॉलेज के कुछ दोस्तों ने मिलकर ५ मिनट की एक छोटी सी फ़िल्म “TRAPPED” बनाई थी । यह उनका पहला प्रयास था ।  बिना संवाद वाले इस फ़िल्म में दिखाया गया है कि किस तरह एक छात्र गलत संगत में पड़कर, अपना जीवन बर्बाद कर लेता है ।

 

 

और हाँ लगे हाथ मैने भी अभिनय में अपना हाथ आज़मा लिया है । बताईये कैसी लगी यह फ़िल्म ? 

10 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन
    अनबोले तो आप लोग बहुत कुछ बोल गये
    और अभिनय को क्या कहने!~~
    सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  2. अच्छा प्रयास। कॉलिज लाइफ एक नाज़ुक दौर होता है जिंदगी का। इसमें भटकने की बहुत गुंजाइश होती है।

    जवाब देंहटाएं
  3. पूरी बात कह गई यह मौन जुबानी...बहुत बढ़िया फिल्म!

    जवाब देंहटाएं
  4. बिना बोले बहुत कुछ कह दिया आपने ।

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहतरीन
    अनबोले तो आप लोग बहुत कुछ बोल गये

    जवाब देंहटाएं
  6. इस अभिनव प्रेरक प्रयोग के लिए
    चंदन जी और उनके दोस्त बधाई के पात्र हैं!
    मेरी शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया लगा था ये फिल्म! सुन्दर प्रस्तुती!

    जवाब देंहटाएं
  8. Is movie ki bhav bhngimao se yehi lagta hai. ki ek bacha padney me bhut chha hai, lekin uski galat sangati usko bigad deti hai. asa mera manna hai. lalit kuchalia

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails