मंगलवार, 28 अप्रैल 2009

क्योंकि मैं मजदूर हूँ

मैं मजदूर हूँ।

देखो न,
मेरे हाथ घिसे-पिटे है।

कहते है भाग्यवादी,
हस्तरेखायें बनाती है भाग्य को।
मेरे भाग्य कौन बनायेगा,
देखो न मिट गयी है रेखायें,
हाथों के ही रगड़ से।

मुझको कौन शराब देगा,
अपने ही दुख को,
शराब समझ पी लेता हूँ।

नशे में हूँ इस कदर,
न होश है इधर का,
न होश है उधर का।

कौन मुझको रंग देगा ?
अपने ही रक्त से,
सबको मैं रंगमय कर दूं।

केश मेरे उलझे हुए है,
कौन इसे सँवारेगा,
कब्र में पड़ हूँ मैं,
कौन मुझे नवजीवन देगा,
अपने ही स्वेदकणों से,
सृष्टी रचता हूँ मैं।

मित्र सच्चा कौन है मेरा,
साथ दिया सबने सुख में,
पुर्णिमा गयी,
देखो न अमावस्या आ गयी,
अब सबने विदा लिया।

कहते है बहुत लोग,
मजदूरों की दशा कुछ हुइ ठीक,
क्या खाख दशा हुइ ठीक,
मुझको पढाने के लिये,
उपक्रम रचते है,
"अ-आ" मैंने सीख लिया,
क्या हो गयी पढाई ?

मुझको इतना गड़ा दिया,
इस दलदल में,
कि निकलते निकलते,
वर्षों निकल जायेगें।

कौन मुझे निकालेगा ?
कौन मुझे निकालेगा ?
क्योंकि मै मजदूर हूँ ।

(19 दिसम्बर 1999)

 

12 टिप्‍पणियां:

  1. मजदूरों की दशा पर अच्‍छी रचना .. सुंदर प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  2. Swagat hai...aaindaa lagtaa hai, gambheer vishayonkee or rujhan rahega...merabhee rehta hai, lekin mujhme jo ek chhoti balika chhupi rehtee hai, wo kayee baar anavrutt honeke liye machalti hai....
    Shayad wo kahaneebhee post karnekaa samay aa gaya hai.."Kahanee" blogpe.
    Mere 13 blogs hain...vishayanusar vibhajit kar diye hain...kabhi samay mile to zaroor padharen..khushee hogee..

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रिय चंदन कुमार झा जी,
    मेरे ब्लॉग "हमसफ़र यादों का......." पर पधारने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद, इसी बहाने आपके ब्लॉग से परिचय हो गया। वाकई मजदूरों की दशा का सटीक चित्रण किया है आपने अपनी कविता के माध्यम से। आशा करता हूँ भविष्य में और भी रचनाएँ पढ़ने को मिलेंगी।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति.. जिंदगी की जद्दोजहद को बहुत अच्छे से प्रस्तुत किया आपने.. मई दिवस से पहले इस तरह की रचना पढ़ना और भी आनंदित कर गया

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत भावपूर्ण रचना।
    काश आपकी संवेदना हमारे समाज में, खास तौर पर देश के कर्णधारों में भी व्यापे।

    जवाब देंहटाएं
  6. chandanji,

    bhothi achha likha hai. sukriya mere blogme aaneka.Thanks for suggestion.

    Sapana

    जवाब देंहटाएं
  7. Nice portrait on worker class.

    Keep Writing.

    Cheers!!
    Have a wonderful Day.

    जवाब देंहटाएं
  8. मेरे ब्लाग पर आने और मेरा मनोबल बढाने के लिये आप सभी लोगों का बहुत बहुत धन्यवाद.कृप्या इसी तरह हमारा मार्ग दर्शन करते रहियेगा.

    जवाब देंहटाएं
  9. Dear chandanjee thanks for inspiring me by giving your comments .
    you have shown the real picture ofa MAJDUUR .GOD BLESS YOU .

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails