सोमवार, 14 दिसंबर 2009

किनारा

किनारे को लांघकर किनारा

लकीर पर चढ़ता गया मैं ।

लकीर बढ़ती हीं गयी

और रह गया

मैं किनारे पर हीं ।

आखिर यह किनारा

खत्म क्यों नहीं होता ?

34 टिप्‍पणियां:

  1. वाह चंदन जी ,
    कम शब्दों में बहुत गहरा कह गए भाई

    जवाब देंहटाएं
  2. सच कम शब्दों में बहुत ही गहरी बात..... बहुत अच्छी लगी यह कविता.....

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही अच्छी रचना है ........

    जवाब देंहटाएं
  4. हम्म अच्छी तरह बयाँ किया है,मन की उलझन को

    जवाब देंहटाएं
  5. Chandanji,
    Very good. A couple of days ago, I had posted a poem which revolves round a similar theme. Please comment upon that.

    जवाब देंहटाएं
  6. Rachnake bhaav darshata chitr...ham sabhi kinare pe hee hai..kahan koyi laangh paya paat ko?

    जवाब देंहटाएं
  7. बेहतरीन ......... गहरी बात लिखी है ..... ये लकीर भी कोई मरीचिका है .........

    जवाब देंहटाएं
  8. hmmm... a question full of depth.. I m also stuck up in such a situation... infact every one is.. The question being how and when will this end ...

    Really nice description...
    I liked it...

    Log kehte hain ki main na-umeedi ka shayar hoon.. Do comment on this... Thanks

    http://painandpaper.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर बहुत पसंद आई आपकी लिखी रचनाएं शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  10. सच कम शब्दों में बहुत ही गहरी बात..... बहुत अच्छी लगी यह कविता.....

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।
    सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  12. न किनारा खत्म होता है न मंजिल खत्म होती है
    खत्म तो सिर्फ सफर होता है।

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर रचना
    बहुत बहुत बधाई .....

    जवाब देंहटाएं
  14. थोड़े से शब्दों में सुन्दर भावाव्यक्ति. कविता बहुत अच्छी लगी.
    महवीर शर्मा

    जवाब देंहटाएं
  15. Chandan ji नव वर्ष की आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनायें.....

    जवाब देंहटाएं
  16. na milte hai na mit te hai na khatam hote hai kinare..khatam ho jaye to zindgee me badh aa jaye inka hona h hitkar hai chahe sukhkar hai ki nahi...

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर रचना
    बहुत बहुत आभार

    जवाब देंहटाएं
  18. आखिर यह किनारा

    खत्म क्यों नहीं होता ?
    Shayad har insaan ko kinara khatm honekee ummeed /aas hoti hai!

    जवाब देंहटाएं
  19. आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनायें!
    बहुत बढ़िया रचना लिखा है आपने!

    जवाब देंहटाएं
  20. क्या कर रहे हो?
    कुछ नया लगाओ, भाई!

    --
    "सरस्वती माता का सबको वरदान मिले,
    वासंती फूलों-सा सबका मन आज खिले!
    खिलकर सब मुस्काएँ, सब सबके मन भाएँ!"

    --
    क्यों हम सब पूजा करते हैं, सरस्वती माता की?
    लगी झूमने खेतों में, कोहरे में भोर हुई!
    --
    संपादक : सरस पायस

    जवाब देंहटाएं
  21. सुन्दर रचना
    बहुत बहुत आभार

    जवाब देंहटाएं
  22. बहुत खूब चंदन जी
    जीवन की यही हकीकत है।

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails