मंगलवार, 18 अगस्त 2009

मैनें उसको देखा पथ पर







मैनें उसको देखा पथ पर,
लुढ़का पड़ा था नाली पर,
कपड़े थे उसके तितर-बितर,
पर..............................


ध्यान न गया किसी का उसपर,
कवियों की कलमें टूट गयी पर,
रंग डाले सारे पन्ने पर,
पर.......................


नजर न डाली किसी ने उसपर,
पड़ा रहा उसी भाँति वह पथ पर,
उसकी हालत थी अब बदतर,
पर...............................


झपट पड़ा कुत्ता भी उसपर,
ले गया आधा वह भी बांटकर,
शांत रहा वह आधे पेट का आधा भरकर,
पर............................................


अपनी गुदड़ी में घुसकर,
रात बितायी ठिठुर - ठिठुर कर,
सुबह चला फिर अपने पथ पर,
पर................................


(२९ दिसम्बर १९९९)


(चित्र साभार- गूगल सर्च)


22 टिप्‍पणियां:

  1. Good thinking... you can elaborate it...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब त्रासद लिखा है आपने.
    भावनाए मुखर है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसी ही रचनाएं संवेदनाओं को पुष्ट करती हैं, परदुखकातर बनाती हैं और हमें मनुष्य होने का गौरव प्रदान करती हैं. बधाई अच्छी रचना के लिये.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Kya kahun? Pata nahee..ham kin,kin karmon kee saza bhugatte rahte hain?

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. waah chandanji..............
    chandan ki visheshta hai ki vah apni thandak se doosron ke taap ko mitaata hai..........

    kavita me bhi aapne ik dukhiyaare ki sthiti ka itnee karun shaili me varnan kiya hai ki shaayad bhagwaan ko daya aa jaaye aur use bhi koi samhaalne waala mil jaaye...........
    waah !
    badhaai !

    उत्तर देंहटाएं
  6. samvedan shaal है आपकी रचना ........... saarthak, saty के kareeb .........

    उत्तर देंहटाएं
  7. Chandan Ji,
    parpeeda ko samjhana har kisi ke bas ki baat nahi, aap samjhate hai, ye aapke samvedansheel hone ki nishaani hai ...............!
    Good expressions, as always....

    Pratima Sinha

    उत्तर देंहटाएं
  8. चमचमाती गाड़ियों के पास बैठे निरीह अंतिम आदमी का बिलकुल सटीक चित्रण किया है. अच्छी रचना के लिए बधाई स्वीकारें...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर रचना लिखा है आपने! पढकर बहुत अच्छा लगा!
    मेरे नए ब्लॉग पर आपका स्वागत है!
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. चन्दन जी आपका बहुत -बहुत शुक्रिया !आपकी सलाह ने मुझे खुद को अभिव्यक्त करने मे जो मदद की है उसके लिये मै आपकी दिल से आभारी हू !

    उत्तर देंहटाएं
  11. शब्दार्थ नोट करें
    कमज़र्फ याने एहसान फरामोश और दाना याने बुद्धिमान या समझदार



    अच्छी कविता
    वाह

    उत्तर देंहटाएं
  12. धन्यवाद योगेन्द्र मौदगिल जी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. अपनी कलम से एक बार पुनः सिद्ध कर दिया कि करना कोई कुछ नहीं चाहता, बस देखना, खबरे बनाना, चटखारे ले कर मज़ा लेना आदि जैसे करती ही तो आज के कर्म रह गायें हैं.

    मार्मिक कविता द्वारा गहन सन्देश विशेष रूप से पसंद आया.
    बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  14. मुझे तो निराला जी की याद आ गई ..इलहाबाद के पथपर देखा उसको...

    उत्तर देंहटाएं
  15. संग बनाये रखने के लिये आप सभी का आभारी हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  16. jaishankar prasad ki bhikshuk yaad aa gayi...
    wah aata..
    do took kaleje ke karta..
    pachtata path par jaata..

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails