शुक्रवार, 26 मार्च 2010

कॉलेज के दिन…….याद आएँगे……

आज कॉलेज का अंतिम दिन था । कुछ दिनों में फाईनल परिक्षायें होंगी, उसके बाद हम सभी छात्र अपना बोरिया- बिस्तर बाँध यहाँ से निकल पड़ेगे । चार साल किस तरह बीत गये, कुछ पता हीं नहीं चला । मन दुःखी इसलिये है कि हम सभी दोस्त एक दूसरे से बिछड़ जायेंगे और ना जाने फिर कब मिलना हो । और खुशी इस बात की कि अब 6-6 घंटे की उबाऊ  कक्षाओं से मुक्ति मिल जायेगी । हमारे जूनियर्स, हमारी विदाई अश्रुपूरित नेत्रों से पहले हीं कर चुके है । 19 मार्च को उन लोगो ने हम सभी सीनियर्स के लिये शानदार पार्टी आयोजित की थी । समारोह के अंत में सभी भावुक होकर रोने लगे थे । कुछ तस्वीरें-

 

 

यह आना-जाना, छूटने-बिछड़ने का क्रम तो लगा हीं रहता है । यह बात  हम सभी जानते है, पर यह मन कहाँ मानता है । आगे की ज़िन्दगी हम लोगों की राह देख रही है, ना जाने कैसे-कैसे रास्ते मिलेंगे । कहीं पढ़ा था “बहता पानी निर्मला  । यह पानी कितना निर्मल है यह तो नहीं पता, पर यह ज़िन्दगी बहती रहेगी, पानी की तरह हमेशा ।

 

ज़िन्दगी !!!

मैं तुम्हारे साथ चलना चाहता हूँ

कदम से कदम मिलाकर

बैठा हूँ इंतजार में तुम्हारे

संग चलोगी क्या तुम मेरे ?

फूल मिलेंगे या फिर काटें

तुम्हारे दामन  में

रखूँगा सम्भाल कर उन्हें

बहुत तेज नहीं चल पाऊँगा तो

क्या फिर भी दोगी साथ मेरा तुम

ज़िन्दगी !!!

संग चलोगी क्या तुम मेरे ?

 

कॉलेज और दोस्तों की याद में मेरे दोस्त और रूममेट “नवनीत नवल” ने एक म्युज़िकल एल्बम “कॉलेज के दिन”  बनाई है । इस गीत को नवनीत ने लिखा है और संगीत भी उसी ने तैयार किया है  । गीत को गाया भी नवनीत ने ही है । इस एल्बम का तैयार होना नवनीत के लिये किसी ख्वाब के पूरा होने से कम नहीं है । हम सभी के लिये यह एक बहुत बड़ी बात है । यह गीत हम सभी दोस्तों के लिये कालेज की यादों की एक सच्ची निशानी है, एक उपहार है जिसे हम सभी दोस्त हमेशा गाते रहेंगे और गुनगुनाते रहेंगे । हमेशा याद रखेंगे । यह विडियो देखिये-

 

कॉलेज के दिन-नवनीत नवल

 

ऑडियो आप यहाँ से सुन सकते हैं-

19 टिप्‍पणियां:

  1. इस तरह के पोस्ट से तो कॉलेज याद आना ही है....अच्छा लगा....
    ...
    http://laddoospeaks.blogspot.com/2010/03/blog-post_26.html

    जवाब देंहटाएं
  2. badhaai ho mitr... ab college ke us paar ki duniya tumhara intezaar kar rahi hai... swagat hai tumhara yahan.. dil majboot kiye rehna waise college days hamesha best days hote hain..

    'Summer of 69' ki wo line hai na.. 'those were the best days of my life'..

    जवाब देंहटाएं
  3. स्वभाविक है. अच्छा याद किया और उम्दा रचना बन पड़ी है.

    जवाब देंहटाएं
  4. बढ़िया लगी आपकी यह खास प्रस्तुति....और भैया मस्त..क्या कमाल के अंदाज में....बढ़िया प्रस्तुति के लिए धन्यवाद जी

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह .. कालेज के दिन भी क्या दिन होते हैं .. आपने कुछ भूली बिसरी यादे ताज़ा कर दी ....

    जवाब देंहटाएं
  6. कॉलेज छोड़ते समय ऐसा ही महसूस होता है....हमेशा याद रहते हैं ये दिन!

    जवाब देंहटाएं
  7. aapke college ke din dekhkar mujhko bhi apne college ke din yaad aaagye masti bahre din the vo college ke din

    जवाब देंहटाएं
  8. भई वीडियो देख कर तो मजा आया..और काफ़ी कुछ याद भी आ गया...नवनीत को भी बधाई दीजियेगा..अच्छा गीत बना है..खासकर गायन और संगीत के लिये...पिक्चराइजेशन तो मस्त है ही..नॉस्टल्जिक सा..आपको भी फ़ाइनल इम्तिहान के लिये शुभकामनाएं..

    जवाब देंहटाएं
  9. Bahut hi pyara laga. aap sabhi ko dher sari shubhkamnayen ek aur safar tay karne ke liye.
    God bless you to all of you.

    जवाब देंहटाएं
  10. ज़िन्दगी !!!

    मैं तुम्हारे साथ चलना चाहता हूँ

    कदम से कदम मिलाकर

    बैठा हूँ इंतजार में तुम्हारे

    संग चलोगी क्या तुम मेरे ?

    फूल मिलेंगे या फिर काटें

    तुम्हारे दामन में

    रखूँगा सम्भाल कर उन्हें

    बहुत तेज नहीं चल पाऊँगा तो

    क्या फिर भी दोगी साथ मेरा तुम

    ज़िन्दगी !!!

    संग चलोगी क्या तुम मेरे ?

    zindagi ke prati apka drishtikon bahut achchha laga.......bas zindagi ka ek kadwa sach hai.......khona paana fir khona / bichadna milna fir bichadna.........and so on....!!!!!!!!!

    जवाब देंहटाएं
  11. वाह बहुत खूब! लाजवाब और दिलचस्प! आपका पोस्ट पढ़कर मुझे अपने कॉलेज के दिन याद आ गए!

    जवाब देंहटाएं
  12. मुझे अपने बीते समय की याद दिला गई पोस्ट!
    यह अनुभूति ब्लॉग से ही होती है सजीव सी।

    जवाब देंहटाएं
  13. अच्छा लिखते हो , भविष्य आपसे उम्मीदें रखेगा !
    शुभकामनायें बच्चे !

    जवाब देंहटाएं
  14. Wo din yaad aa gaye jab hambhi college aur hostel chhod apne doston/saheloyon se bichhade the..
    Geet to aprateem hai!

    जवाब देंहटाएं
  15. भावुक रचना है , पर हर अच्छी चीज का एक दिन अंत होता है और वो अंत बेहतरी के लिए होता है . हमें बस जरुरत है , उस अतीत को सहेजकर रखने की

    जवाब देंहटाएं
  16. 阿彌陀佛 無相佈施


    不要吃五辛(葷菜,在古代宗教指的是一些食用後會影響性情、慾望的植
    物,主要有五種葷菜,合稱五葷,佛家與道家所指有異。

    近代則訛稱含有動物性成分的餐飲食物為「葷菜」,事實上這在古代是稱
    之為腥。所謂「葷腥」即這兩類的合稱。 葷菜
    維基百科,自由的百科全書
    (重定向自五辛) 佛家五葷

    在佛家另稱為五辛,五種辛味之菜。根據《楞嚴經》記載,佛家五葷為大
    蒜、小蒜、興渠、慈蔥、茖蔥;五葷生啖增恚,使人易怒;熟食發淫,令
    人多慾。[1]

    《本草備要》註解云:「慈蔥,冬蔥也;茖蔥,山蔥也;興渠,西域菜,云
    即中國之荽。」

    興渠另說為洋蔥。) 肉 蛋 奶?!











    念楞嚴經 *∞窮盡相關 消去無關 證據 時效 念阿彌陀佛往生西方極樂世界











    我想製造自己的行為反作用力
    不婚 不生子女 生生世世不當老師








    log 二0.3010 三0.47710.48 五0.6990 七0.8451 .85
    root 二1.414 1.41 三1.732 1.73五 2.236 2.24七 2.646
    =>十3.16 π∈Q' 一點八1.34

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails